How To Make Moong Dal Mangodi/Mithouri At Home (घर पर मूँग दाल की बड़ी बनाने की विधि)

मंगोड़ी / बड़ी (Mangodi / Badi) को अलग अलग दालो से बनाया जाता है। वैसे तो आजकल बाजार में ही अलग अलग तरह की बड़ियाँ बहुत ही आसानी से मिल जाती है , पर घर पर बनायीं हुई बड़ियो का स्वाद ही अलग होता है। खासतौर पर धुली हुई मूँग और उड़द दाल से ही बड़ी बनायीं जाती है। उतर भारत में बड़ी को मिथौरी भी कहा जाता है। सूखी हुई मिथौरी को आलू के साथ बनाया जाता है। मिथौरी आलू की सब्जी खाने में बहुत स्वादिष्ट होती है। तो आईये आज हम भी घर मूँग दाल की मंगोड़ी बनायेंगें जिस धूप में सुखाकर एयर टाइट डिब्बे में स्टोर करके कभी भी  इस्तेमाल कर सकते है।

आवश्यक सामग्री (Ingredients For Moong Dal Mangodi / Mithouri)-

धुली मूंग की दाल (Dhuli Moong Dal)- 2 कप
हींग (Heeng)- 1 पिंच
लाल मिर्च पाउडर (Red Chilly Powder)-आधा चम्मच
नमक (Salt)- स्वादानुसार
तेल (Oil)- 2 -3 चम्मच
प्लास्टिक शीट / ट्रे (Plastic Sheat/ Trey)- मंगोड़ी बनाकर सुखाने के लिए

विधि (How To Make Moong Dal Mangodi / Mithouri At Home)-

मूँग दाल की मंगोड़ी बनाने के लिए सबसे पहले  हुली हुई मूँग दाल को साफ करके पानी से धोकर पानी में 4 -5 घंटे के लिये भिंगो दें। जब दाल भींग जाये तब भींगी हुई दाल से एक्स्ट्रा पानी निकालकर मिक्सी के जार में बिना पानी डाले दाल को थोड़ा दरदरा पीस लें। अब पिसी हुई दाल को किसी बड़े बर्तन में निकालकर हींग , लाल मिर्च पाउडर , नमक को डालकर दाल में मिला दें। इसके बाद दाल को 4-5 मिनट तक अच्छे से खूब फैंट लें। मंगोड़ी/बड़ी बनाने के लिये दाल तैयार है। अब हम मिथौरी बनायेंगें। मिथौरी बनाने के लिए प्लास्टिक शीट / ट्रे को  तेल लगाकर चिकना कर लें। अब हाथ में थोड़ी सी दाल के पेस्ट को हाथ में लेकर छोटी-छोटी मंगौड़ी बनायें। अब ट्रे पर बनायीं हुई मंगौड़ी के सूखने के लिए को धूप में रख दें। अगर तेज धूप है और अगर आपने मंगोड़ी सुबह ही बना दी है तो शाम तक काफी हद तक सूख जाती हैं इसीलिए मंगोड़ी सुबह ही बनाई जाती है ताकि दिन भर की धूप में सूख सकें। सूखकर ट्रे /प्लास्टिक शीट से मंगोड़ी आराम से निकल आती हैं, दूसरे दिन मंगोड़ी को फिर से धूप रखकर सुखा लें। मूंग की दाल की मंगोड़ी सूख कर तैयार हो गई हैं, अब आप सूखी हुई मंगोड़ी को साफ और सूखे डिब्बे में भर कर रख लें। मूँग दाल की मंगोड़ी को 1 साल तक रखकर आवश्यकतानुसार इस्तेमाल कर सकते है।
Note :-
1 . छोटी आकार की मंगोड़ी जल्दी सूख जाती हैं, बड़े आकार की मंगोड़ी देर से सूखती है  पर छोटी बड़ी मंगोड़ी के स्वाद में कोई फर्क  होता है।
2 . बड़ियों को अच्छी तरह सुखा कर ही भरें , नहीं तो वे खराब हो जायेंगी.
3 . दाल को बहुत ज्यादा घंटो तक न भिंगोये क्योकि दाल को ज्यादा भिगोने से बड़ियों का स्वाद उतना अच्छा नहीं बनता।

You may also like...