Benefits Of Triphala (त्रिफला के फायदे)

Benefits Of Triphala

त्रिफला (Benefits Of Triphala) का अर्थ है तीन फल, त्रिफला चूर्ण को बनाने में भी हरड़, बहेड़ा और आंवला को बराबर मात्रा में लेकर बीज निकाल कर पीस कर बनाया जाता है। वैसे आज के समय में बाजार में भी बहुत ही आसानी से त्रिफला का चूर्ण मिल जाता है। यह पेट की समस्याओं के लिए बहुत ही लाभदायक चूर्ण माना जाता है। त्रिफला चूर्ण का सेवन करने वाले व्यक्तियों में ह्रदयरोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, आँखों के रोग, मोटापा आदि होने की संभावना नहीं होती है लेकिन डॉक्टर की सलाह लेने के बाद ही त्रिफला चूर्ण (Benefits Of Triphala) का सेवन करना चाहिए तो आईये आज हम त्रिफला के फायदों के बारे में बात करेंगें।

त्रिफला चूर्ण बनाने की विधि (How To Make Triphala Powder At Home):-
सूखा देसी आंवला, बड़ी हरड़ और बहेड़ा लेकर गुठली निकाल दें। तीनों सामग्रियों को बराबर मात्रा में मिलाकर महीन पीस लें  और कपड़े से छान कर कांच की शीशी में भरकर रखें।

त्रिफला के फायदे (Benefits Of Triphala) :-
1.
त्रिफला के चूर्ण को गुनगुने पानी में घोलकर काढ़े के रूप में शहद मिलाकर पीने से मोटापा कम होता है।
2. त्रिफला के काढ़े से घाव धोने से घाव जल्दी भर जाता है और इन्फेक्शन की भी कोई सम्भावना नही रहती है।
3. त्रिफला चूर्ण हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर रोगों से लड़ने में सहायता (Benefits Of Triphala) करता है।
4. रात को सोने से पहले गुनगुने पानी के साथ त्रिफला चूर्ण लेने से पेट में कब्जियत नहीं रहती है और पाचन क्रिया भी अच्छी रहती है।
5. त्रिफला, जीरा, पीपल, काली मिर्च को बराबर मात्रा में लेकर पीसकर चूर्ण बनाकर रख लें फिर इस पीसे हुए चूर्ण में से आधा चम्मच चूर्ण को शहद के साथ सुबह और शाम खाने से एसिडिटी में काफी लाभ मिलता है।
6 . मधुमेह का उपचार करने के लिए त्रिफला का काढ़ा रोजाना पीना चाहिए। इससे मधुमेह रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।
7. मोटापा कम करने के लिए त्रिफला का चूर्ण शहद के साथ 10 ग्राम की मात्रा में दिन में 2 बार लेने से लाभ मिलता है।
8. जोड़ों के दर्द को दूर करने के लिए गिलोए का रस और त्रिफला का रस आधे कप पानी में मिलाकर सुबह-शाम भोजन के बाद पीने से लाभ मिलता है।
9. रात को सोते समय एक चम्मच त्रिफला का चूर्ण पानी के साथ लेने से खून साफ़ होता है और त्वचा संबंधी सभी रोग भी ठीक हो जाते हैं।
10. मिश्री और त्रिफला को घी में मिलाकर खाने से सिर के सभी रोग खत्म हो जाते हैं और सिर का दर्द ठीक हो जाता है।