कढ़ी पूरे भारत कि बहुत ही प्रसिद्ध डिश है जिसे दही और बेसन के साथ बनाया जाता है। कढ़ी को हम अलग अलग तरह की सब्जियों और सामग्रियों से बना सकते है – पकोड़ा कढ़ी, पालक की कढ़ी, गाजर की कढ़ी आदि,  भारत में कढ़ी अलग अलग क्षेत्रो के अनुसार विभिन्न प्रकार की बनायीं जाती है। हम आपसे पहले ही पकोड़ा कढ़ी बनाने की विधि शेयर कर चुके है तो आईये आज हम आपसे बूंदी की कढ़ी (Boondi Kadhi) बनाने की विधि शेयर करेंगें।

आवश्यक सामग्री (Ingredients For Boondi Kadhi Recipe)-boondi-ki-kadhi
बेसन (Beasn)-आधा कप
दही(Yogurt)-1 कप (खट्टा)
बूंदी (Boondi)- 1 कप
हल्दी पाउडर (Turmeric Powder)-1 छोटा चम्मच
लाल मिर्च पाउडर (Red Chilly Powder)-1 चम्मच
राई दाना (Mustard Seeds)-आधा चम्मच
जीरा (Cumin Seeds)-आधा चम्मच
मेथी दाना (Methi Dana)-आधा चम्मच
हींग (Asafoetida)-1 पिंच
हरी मिर्च (Green Chilly)- 2 (बारीक कटी हुई)
हरा धनियाँ (Coriander Leaves)-2 चम्मच (बारीक कटा हुआ)
तेल (Oil)-2-3  चम्मच

विधि (How To Make Boondi Kadhi Recipe)-
बूंदी की कढ़ी बनाने के लिए सबसे पहले दही को एक बड़े बर्तन में मथ लें और बेसन को फैंटे हुये दही में मिलाकर इसमें 4-5  कप  पानी मिला दें। अब इसमे नमक, हल्दी पाउडर, लाल मिर्च पाउडर मिला दें और इस घोल को अच्छी तरह से फैंट लें जिससे घोल में गुठली न पड़ें। एक कडाही में तेल गरम करें , जब तेल हो जाये तब गरम तेल में हींग, मैंथी दाना, राई और जीरा डाल दें, थोड़ी देर चलायें फिर इसमे दही बेसन वाला घोल डालकर मिलाएं और अच्छे से चलाते रहे कि जब तक घोल में उबाल ना आ जाए। घोल में उबाल आने के बाद गैस को धीमा करके  करीब 10-15 मिनट तक उबलने दें। , इसके बाद  गैस को बंद कर दें और बूंदी को कढ़ी में डालकर मिलाकर ढक दें। अब बूंदी की कढ़ी मे तड़का लगाने के लिए एक तड़का पैन में तेल गरम करें, जब तेल गरम हो जाये उसमें कटी हरी मिर्च और ज़ीरा डाल कर तड़का कर कढ़ी में छौंक लगा लें और कटे हुए हरे  धनिये से गार्निश कर दें। स्वादिष्ट बूंदी की कढ़ी (Boondi Kadhi) बनकर तैयार हो गयी है, गरमा गर्म बूंदी की कढ़ी को रोटी, ज़ीरा राईस, प्लेन राईस के साथ सर्व करें।

Pin It
Balushahi Recipe (बालूशाही)
Til Gud ke Ladoo Recipe (तिल गुड के लड्डू)
Matka Kulfi Recipe (मटका कुल्फी)
Idli Chat Recipe (इडली चाट)
Beetroot Raita Recipe (चुकंदर का रायता)
Mawa Pethe Ke Laddu Recipe (मावा पेठे के लडडू)