चाशनी में पगी गुझिया उत्तर भारत की एक बहुत ही पॉपुलर डिश है जिसे आप ज्यादातर सभी हलवाई की दुकान पर आसानी से देख सकते है। चाशनी में पगी हुई गुझिया खाने में बहुत ही स्वादिष्ट और एकदम अनोखे स्वाद वाली होती है, होली के त्यौहार पर गुझिया पूरे उत्तर भारत में जरूर बनायीं जाती है। गुझिया को हम अलग अलग बहुत से तरीको से बना सकते है जैसे – सूजी की गुझिया, मावा की गुझिया, राजस्थानी चूरमे की गुझिया और गाजर पनीर की गुझिया आदि। आज हम आपसे चाशनी में पगी हुई गुझिया बनाने की विधि शेयर करेंगें तो आईये आज हम भी चाशनी में पगी हुई गुझिया (Gujhiya Dipped in Sugar Syrup) बनायेंगें।

आवश्यक सामग्री (Ingredients For Gujhiya Dipped in Sugar Syrup Recipe)-chashni-me-pagi-gujiya..
आटा लगाने के लिए(For Dough)
मैदा (Maida)- 2 कप
दूध (Milk)- आधा कप
घी (Ghee)- 3-4 चम्मच
पानी (Water)- आटा लगाने के लिए
भरावन के लिए(For Stuffing)
खोया (Mawa)- 250 ग्राम
घी (Ghee)- 1 चम्मच
पिसी चीनी (बूरा)(boora)- डेढ़ कप
गरी (Grated Coconut)- आधा कप
चिरोंजी (Chiraungi)- 4-5 चम्मच
किशमिश (Raisin)- 20-25
इलाइची पाउडर (Cardomom Powder)- 1 चम्मच
चाशनी बनाने के लिए (For Sugar Syrup)
चीनी  (Sugar)- 2 कप
पानी  (Water)- 1 कप
अन्य जरूरी चीजे (Other Things)-
घी  (Ghee)– गुझिया तलने के लिए
मैदा का घोल  (Maida ka Ghol)– 1 कप में 1 चम्मच मैदा में 3 चम्मच पानी डालकर घोल बना लें

विधि (How To Make Gujhiya Dipped in Sugar Syrup Recipe)-
चाशनी में पगी हुई गुझिया बनाने के लिए सबसे पहले एक भारी तली की कढ़ाही में 1 चम्मच घी डालकर फिर खोया को घी में डालकर गुलाबी होने तक भून लें। फिर भुने हुए खोये को एक बर्तन में निकाल कर ठंडा होने के लिए रख दें। जब खोया ठंडा हो जाए तब इसमे पिसी हुई चीनी (बूरा) और सभी मेवों को डालकर अच्छी तरह से मिला लें। गुझिया में भरने के लिये भरावन का मिश्रण तैयार हो गया है। अब हम गुझिया के खोल के लिए आटा लगायेंगें। आटा लगाने के लिए मैदा को किसी बर्तन में छानकर निकाल लें। अब घी को पिघला कर मैदा में डालकर दोनों हाथों से अच्छी तरह से मिला लें। अब दूध को भी आटे में मिला दें और अब पानी की सहायता से पूरी जैसा कड़ा आटा गूथ लें। अब इस गूंथे हुए आटे को करीब 20 मिनट के लिये हल्के गीले सूती कपड़े से ढांककर रख दें। अब 20 मिनट के बाद आटे को दुबारा से गूँथ कर सेट कर लें। अब आटे की छोटी छोटी लोई बना लें और लोइयों को भी गीले कपड़े से ढककर रखे। अब एक एक लोई को लेकर पूरियों को बेलकर तैयार कर लें और यह पूरी मावा वाली गुझिया की पूरी से थोड़ी मोटी रहनी चाहिए, इसी तरह से सभी लोइयों कि पूरी बेलकर तैयार कर लें। अब एक पूरी को लेकर हाथ पर रखें और अब पूरी के ऊपर 1 चम्मच भरावन को रखें और किनारों पर जो मैदा का घोल बनाया है उसे लगा लें और पूरी को मोड़कर बन्द कर लें और फिर उंगलियों से किनारों को दबाकर अच्छी तरह से चिपका लें क्योकि चाशनी वाली गुझिया बनाने के लिये सांचे की जरूरत नही होती है। इसलिए गुझिया के किनारे को हाथ से गोठकर बनाया जाता है इसके लिए आपको गुझिया के किनारे गोठने की प्रैक्टिस करनी पड़ेगी, इस तरह से आप सभी पूरी से गुझिया को भरकर तैयार कर लें और फिर भरी हुई गुठी गुझिया को किसी ट्रे या फिर थाली में कपड़े से ढककर रख लें। अब हम इन भरी हुई गुझिया को तलेंगें, गुझिया को तलने के लिए एक कढ़ाही में घी डाल कर गैस पर गरम करने के लिए रखें। जब घी गरम हो जाए इसमें 1-2 गुझिया को डालकर और मीडियम आंच पर ब्राउन चित्ती आने तक पलट पलट कर तलें। अब कढ़ाई से गुझिया को निकालकर किसी बर्तन में किचन पेपर बिछाकर उस पर तली हुई गुझिया निकाल लें। ऐसे ही सारी गुझियों को तलकर तैयार कर लें। अब सभी तली हुई गुझियों को हम चाशनी में डालकर पागेंगे। इसके लिए हम अब चाशनी बनायेंगें। चाशनी बनाने के लिए किसी पैन में चीनी और पानी डालकर चाशनी बनने के लिये गैस पर रखें और चाशनी को कलछी से हुए 2 तार की चाशनी बना लें। अब गैस बन्द कर दें क्योकि 2 तार की चाशनी बनकर तैयार हो गयी है़। अब हम तली हुई गुझिया को चाशनी में डालकर चाशनी की लेयर चढायेंगें। इसके लिए चाशनी में 2-3 तली हुई गुझिया डालकर निकाल कर एक थाली में रख लें और इसी प्रकार से सारी गुझियों को चाशनी में डिप करके निकाल लें और गुझियों को एक दूसरे से अलग ही रखकर करीब आधा घंटे के लिये खुली हुई हवा में छोड़ दें। स्वादिष्ट चाशनी वाली गुझिया बनकर तैयार हो गयीं हैं, चाशनी में पगी हुई गुझिया को आप करीब 10-15 दिन तक रखकर इस्तेमाल कर सकते है।

Pin It
Garlic Naan Recipe (गार्लिक नान)
Mango Kulfi Recipe (मैंगो/आम कुल्फी)
Rice Kheer Recipe (चावल की खीर)
Homemade Tutti Frutti Recipe (टूटी फ्रूटी/कैंडी)
Urad Dal Ke Laddu Recipe (उड़द दाल के लड्डू)
Palak Raita Recipe (पालक रायता)
  • Renuka Oke

    we in Maharashtra call it KARANJEE.and we eat it after frying them directly. This is slightly different recipe.