Benefits Of Papaya (पपीते के फायदे)

पपीता (Papaya) स्वादिष्ट होने के साथ साथ हमारे स्वास्थ के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। इसमे अधिक मात्रा में विटामिन A ,कैल्शियम , कैरोटीन ,फॉस्फोरस, पोटेशियम, आयरन, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन पाया जाता है। इसके अलावा पपीता में पेप्सिन नामक एक पाचक तत्व पाया जाता है ,जो हमारी पाचन क्रिया को अच्छा रखकर भोजन को पचाने में सहायता करता है। इसी प्रकार पपीते से हमें बहुत से लाभ होते है तो आईये आज हम पपीते से होने वाले फायदों (Benefits Of Papaya) के बारे में बात करेंगें।

पपीते के फायदे (Benefits Of Papaya) :-papaya
1. पपीते में अधिक मात्रा में विटामिन A  पाया जाता है। इसलिए यह आंखों और त्वचा के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है। इससे आंखों की रोशनी तो अच्छी होती ही है , त्वचा भी स्वस्थ और चमकदार रहती है।
2 . पपीते के एक चम्मच बीज को पानी में पीस कर आधा कप पानी के साथ पीने पर पेट के कीड़े मर जाते हैं।
3. पपीते का दूध दाद पर लगाने से बहुत ही लाभ होता है।
4. पपीते में भरपूर मात्रा में कैल्शियम भी पाया जाता है। इसलिए यह शरीर की हड्डियों को मजबूत बनाने का काम करता है।
5. पपीता स्वास्थ्य के लिए जितना फायदेमंद होता है उतना ही चेहरे के लिए भी होता है। पके हुए पपीते का गूदा चेहरे पर लगाने से मुंहासे और झाइयों की समस्या से राहत मिलती है। इससे त्वचा का रूखापन भी दूर होता है।
6. पपीता हृदय रोगियों और डायबिटीज के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। यह उच्च कोलेस्ट्राल स्तर को कम करने में मदद करता है।
7. अगर आप मुंहासों से परेशान हैं तो कच्चे पपीते के गूदे को शहद में मिलाकर चेहरे पर लगाएं और जब वह सूख जाए तो गुनगुने पानी से चेहरा धो लें। उसके बाद मूंगफली के तेल से हल्के हाथ से चेहरे पर मालिश करें। एक महीने तक रोजाना ऐसा करने से काफी लाभ होगा।
8. पपीते के रस से खट्टी डकारें बंद हो जाती है।
9. पपीते के सेवन से अर्थराइटिस के दर्द और कैंसर जैसर बीमारियों से राहत मिलती हैं, हालांकि इससे बीमारी को जड़ से खत्म नहीं किया जा सकता लेकिन ये इन बीमारियों से होने वाले दर्द और अन्य़ समस्याओं से निजात दिलवाता है।
10. जिन लोगों को बहुत अधिक कब्ज की शिकायत रहती है उनके लिए पपीता किसी औषधी से कम नहीं।

Pin It

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *