Chandrakala Gujhiya Recipe (चंद्रकला गुझिया)

Jpeg

चंद्रकला गुझिया (Chandrakala Gujhiya) बंगाल की एक बहुत ही पॉपुलर और स्वादिष्ट डिश है जिसे आप ज्यादातर सभी स्वीट्स शॉप पर आसानी से देख सकते है। चन्द्रकला गुझिया खाने में बहुत ही स्वादिष्ट और एकदम अनोखे स्वाद वाली होती है, हमारे यहाँ पर ज्यादातर हर त्यौहार खासकर होली के त्यौहार पर गुझिया जरूर बनायीं जाती है। गुझिया को हम अलग अलग बहुत से तरीको और अलग अलग तरह की स्टफिंग के साथ बनाया जा सकता है। आज हम आपसे बंगाल की ख़ास और ट्रेडिशनल डिश चन्द्रकला गुझिया बनाने की विधि शेयर करेंगें जिससे आप भी इस स्वादिष्ट डिश को बनाकर ट्राई कर सकें तो आईये आज हम चन्द्रकला गुझिया (Chandrakala Gujhiya) बनायेंगें।

Jpeg

आवश्यक सामग्री (Ingredients For Chandrakala Gujhiya Recipe)-
आटा लगाने के लिए (For Dough)–
मैदा (Maida)- 2 कप
दूध (Milk)- आधा कप
घी (Ghee)- 3-4 चम्मच
पानी (Water)- आटा लगाने के लिए
भरावन के लिए (For Stuffing)–
खोया (Mawa)- 250 ग्राम
घी (Ghee)- 1 चम्मच
पिसी चीनी (Sugar Powder)- डेढ़ कप
गरी (Grated Coconut)- आधा कप
चिरोंजी (Chiraungi)- 4-5 चम्मच
किशमिश (Raisin)- 20-25
इलाइची पाउडर (Cardomom Powder)- 1 चम्मच
चाशनी बनाने के लिए (For Sugar Syrup)–
चीनी (Sugar)- 2 कप
पानी (Water)- 1 कप
अन्य जरूरी चीजे (Other Things)-
घी (Ghee)– गुझिया तलने के लिए
मैदा का घोल (Maida ka Ghol)– एक कप में 1 चम्मच मैदा में 3 चम्मच पानी डालकर घोल बना लें

विधि (How To Make Chandrakala Gujhiya)-
चन्द्रकला गुझिया बनाने के लिए सबसे पहले एक भारी तली की कढ़ाही में 1 चम्मच घी डालकर फिर खोया को घी में डालकर गुलाबी होने तक भून लें। फिर भुने हुए खोये को एक बर्तन में निकाल कर ठंडा होने के लिए रख दें। जब खोया ठंडा हो जाए तब इसमे पिसी हुई चीनी (बूरा) और सभी मेवों को डालकर अच्छी तरह से मिला लें, गुझिया में भरने के लिये भरावन का मिश्रण तैयार हो गया है।
अब हम चन्द्रकला गुझियों की बाहरी परत के लिए आटा लगायेंगें, आटा लगाने के लिए मैदा को किसी बर्तन में छानकर निकाल लें। अब घी को पिघला कर मैदा में डालकर दोनों हाथों से अच्छी तरह से मिला लें। अब दूध को भी आटे में मिला दें और अब पानी की सहायता से पूरी जैसा कड़ा आटा गूथ लें। अब इस गूंथे हुए आटे को करीब 20 मिनट के लिये हल्के गीले सूती कपड़े से ढांककर रख दें। अब 20 मिनट के बाद आटे को दुबारा से गूँथ कर सेट कर लें। अब आटे की छोटी छोटी लोई बना लें और लोइयों को भी गीले कपड़े से ढककर रखे। अब एक एक लोई को लेकर पूरियों को बेल लें, इसी तरह से सभी लोइयों कि पूरी बेलकर तैयार कर लें। अब एक पूरी को लेकर हाथ पर रखें और अब पूरी के ऊपर बीच में 1 चम्मच भरावन रखकर पूरी के किनारों पर जो मैदा का घोल बनाया है उसे लगा लें और अब दूसरी पूरी को भरावन के ऊपर एकदम बराबर में रखकर दोनों पूरियों को हल्के से चिपकाकर बन्द कर लें और चन्द्रकला गुझिया बनाने के लिये सांचे की जरूरत नही होती है इसलिए गुझिया के किनारे को हाथ से गोठकर बनाया जाता है इसके लिए आपको गुझिया के किनारे गोठने की प्रैक्टिस करनी पड़ेगी, इस तरह से आप सभी पूरी से गुझिया को भरकर तैयार कर लें और फिर भरी हुई गुठी गुझिया को किसी ट्रे या फिर थाली में कपड़े से ढककर रख लें।
अब हम इन भरी हुई गुझिया को तलेंगें, गुझिया को तलने के लिए एक कढ़ाही में घी डाल कर गैस पर गरम करने के लिए रखें। जब घी गरम हो जाये तब इसमें 1-2 गुझिया को डालकर और धीमी आंच पर ब्राउन चित्ती आने तक पलट पलट कर तलें। अब कढ़ाई से गुझिया को निकालकर किसी बर्तन में किचन पेपर बिछाकर उस पर सभी तली हुई चन्द्रकला गुझियों को निकाल लें, ऐसे ही सारी गुझियों को तलकर तैयार कर लें।
अब सभी तली हुई चन्द्रकला गुझियों को हम चाशनी में डालकर पागेंगे, इसके लिए हम अब चाशनी बनायेंगें। चाशनी बनाने के लिए किसी पैन में चीनी और पानी डालकर चाशनी बनने के लिये गैस पर रखें और चाशनी को कलछी से हुए 2 तार की चाशनी बना लें। अब गैस बन्द कर दें क्योकि 2 तार की चाशनी बनकर तैयार हो गयी है़। अब हम तली हुई गुझिया को चाशनी में डालकर चाशनी की लेयर चढायेंगें। इसके लिए चाशनी में 2-3 तली हुई गुझिया डालकर निकाल कर एक थाली में रख लें और इसी प्रकार से सारी गुझियों को चाशनी में डिप करके निकाल लें और गुझियों को एक दूसरे से अलग ही रखकर करीब आधा घंटे के लिये खुली हुई हवा में छोड़ दें। स्वादिष्ट चन्द्रकला गुझिया (Chandrakala Gujhiya) बनकर तैयार हो गयीं हैं, चन्द्रकला गुझियों को आप करीब 1-2 वीक्स तक रखकर इस्तेमाल कर सकते है।

Pin It

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *